Wednesday, October 14, 2015

Anti Modi Campaign

Onion price hike in Delhi, onion allowed to rot in Delhi blame goes to Modi, Dengu spreads in Delhi , blame goes to Modi, police arrest some culprit or do not arrest some culprit in Delhi, blame goes to Modi. Scam occurs in Bank of Baroda Delhi , blame goes to Modi,,prices of pulses are going up in Delhi or in UP, blame goes to Modi

Dadri incident occurs in UP where a Muslim was beaten to death, blame goes to Modi, not to District administration or UP government

Riot occurs in J& K or in UP or in Bihar ,blame goes to Modi, Gulam Sarwar ,singer of Pakistan is not allowed entry in Mumbai , blame goes to Modi not Maharashtra government or Shiv Sena

A Farmer commits suicide in Karnataka or   in Andhra Pradesh , Rahul Blames Modi,the ratiomlist Mr. mm Kulbargi is killed in the state of Karnataka, blame goes to Modi.
Power shortage in Jharkhand or in Bihar or in Delhi,, blame goes to Modi

Land compensation does not reach fully in the hands of farmer in Kerala , blame goes to Modi

Ministers of AAP sent to jail for personal reason, blame goes to Modi,

Bomb attack takes place during rally in Patna rally, Blame goes to Modi, not to Bihar Government or Bihar police ,

Daud or other terrorists threaten India, uses abusive language against Mr. Modi , blame goes to Modi, There is disturbance in POK , blame goes to Modi, Nawaz Shariff  raises Kashmir issue in UNO or cheats India after each dialogue , stabs India in the name of friendship, blame goes to Modi, If dialogue with Pakistan is resumed, or dialogue process not put into effect , both ways,  blame goes to Modi

Owessi uses abusing remarks on Dadri incident or Lalu uses bad words against PM of India, stripping case in Greater Noida, in all cases of rape or murder , blame goes to Modi,

Beaf is banned in Srinagar by court or by UP government in UP state , blame goes to Modi .....................                                                                           

I think special court should be set up in every corner of every state by each state government to conduct speedy trial of Mr. Modi and try to punish him for every act of his omission or commission and award all who abuse Modi and write to UNO or appeal to USA and UK government to stop Modi   ...................                                                                        

and if state government is not accountable for any lapse, It will be better to declare that they are to be given credit only and all charges must be labelled against Modi only................                  

Media will have greater opportunity to increase their TRP and get huge love from anti-Modi camps.....Media need not discuss subjects of growth , they should search masala related to Modi , hundreds of  good work and good speech may be ignored but one bad sentence if uttered willingly or unwillingly by Modi  , media must make havoc of it so that hundreds of good sentences may vanish.

Keep aside country and apply all energy to malign Modi and need not worry if image of country is tarnished simultaneously,                                                               

Support Pakistan or any other enemy nation if they help in removing BJP and Mr. Modi from power.

Anyone , any political party or any social organisation , any writer or any film actor whoever speaks against Modi or whoever try to weaken India or blame India may become popular in media .

You may use any incident of history or any great man of past to malign Modi ,
even relation with his wife or what he wears and what not wears, activity of student days of Modi or what he did two decades ago , all may be questioned to stop Modi becoming world popular.

Please do not discuss good work if Modi has done, try to search loopholes or distort his statement or that of any other colleague of Modi, all options are open. Anyone who praises Modi either in India or in foreign countries, he should also be abused and humiliated and tagged as Chamcha or flatterer

If you like some more shortcuts to get popularity, other than real work  ,you may adddddddd

It will be appropriate to change the designation of Mr. Modi from Prime Minister to Blame Minister. If a student fails in examination ,mother should blame Modi and ask for CBI investigation. State of UP, Delhi and Bihar may lead in this task

Tuesday, October 6, 2015

Journey To Happiness

Take care of each thought we care, no transformation is possible in a day or two , it is an  ongoing process. Keep attention on each thought you create in your mind .

If we say that transformation is very tough, it becomes very tough, if people say stress is life we say yes it is stressful . If we say we are a peaceful soul, we try to move towards that, Our each thought is very very important, because it is that thought which we listen first and all the day. This mind is like a child. You have to take care of your mind as you take care of your child .

What is natural , peace or tension, it is only peace which is natural, tension is only product of your negative thought.

Tension is outcome of thought which we create in our mind after each action or each event. Peace is natural property of our mind. Our soul has natural properties of love , like peace, happiness, power , knowledge.

You have to repeat always that "I am a peaceful soul and I am a powerful soul
Happiness and love has to be given to others , is to be radiated outside, it will come back to us .

There are five types of sanskar
One set of sanskar we get from our family
one set of sanskar we carry forward from past. Child which takes birth has come with past CD
One set of sanskar is by environment, school friends. teachers
one set of sanskar by strong will, sanskar created by my will power. suppose i have carried forward sanskar of speaking lie, i can change it by our strong will power and stop speaking lie
last set of sanskar is original nature of soul, Original sanskars are love, peace, happiness, power, purity, knowledge.

I am a peaceful soul, I am a happy soul, I am a powerful soul because it is the original character of each soul.

If there are hundred songs on a MP3 CD, and I play only a few songs daily, say 10 songs daily, it means 10 songs become prominent but original ninety songs are not erased. Meditation helps us to play songs of love , happiness etc , it means to reactivate songs of love , power, knowledge, happiness etc which are original sanskar of each soul and qualities which we get as last sanskar of sanskars.

We had forgot original sanskar because we focused on a few songs which we got from family or environment .

Journey of Happiness will start as soon as we understand from core of our heart that happiness is core property of each soul and we have to empower it .
Never compare and compete with others because each soul has its own above mentioned five sets of sanskar .

Never criticise others or ridicule others because others act as per their sanskar and they have to face outcome as per their sanskar.

Have sympathy and love for all , more love for those who commit mistake or who say or act wrong to/ for you.

Try to accept others and never expect others will act as per your mind and as per your choice. Because their mind is not in your control . It is only your own mind which is in your full control and hence you should always try to control yourself , your mind and your thought.

If you get success in such a small work , your journey to happiness is sure to start.
Happiness is a state of being created while working towards the goal, not a feeling to be experienced after achieving the goal.

 If we believe that happiness is experienced after achievement than we create stress, anger and fear while trying to achieve it. Thus we ultimately do not experience happiness.
Before I take responsibility of those around me, I need to take responsibility of my own thinking and feelings.

Manage stress....
*Stress is the pain that comes to make us realise that there is something I need to change.
*Stress is our creation of negative thoughts, which has an effect on our efficiency, memory power, decision power and hence our performance.
*Stress has an impact on our physical and emotional well being, and hence any amount of stress is damaging.
Targets, pressures, deadlines, exam etc are natural but stress is our choice.

 *stress=pressure÷ resilience {inner strength=our tolerance level of stress} generally denominator is conveniently ignored because not ready to take responsibilities for my inner strength and we embrace the conditioning of stress =pressure.

My first responsibility in any situation to take charge of my state of mind, which is in my control.(first I have to be responsible. The ability to respond in every situation is responsibility= response +ability )

Listen How stress is pressure divided by resilience

Let me first sit back and change the quality of my thoughts.....I am a powerful being ..protected and secured ....
I can achieve what I have decided move towards goals
This is my journey. A journey of happiness
Click on following link and Listen carefully and attentively following speech

1. अमेरिका सिर्फ दो तरह के लोगों को VIP मानते हैं :- वैज्ञानिक और शिक्षक ।
2. फ्रांस के न्यायालय में सिर्फ "शिक्षकों" को ही कुर्सी पर बैठने का अधिकार है।
3. जापान में पुलिस "सरकार से अनुमति" लेने के बाद ही किसी शिक्षक को गिरफ्तार कर सकती है।
4. कोरिया में हर शिक्षक को वे सारे अधिकार प्राप्त हैं, जो भारत के मंत्री को प्राप्त हैं, सिर्फ अपना आयकार्ड दिखा कर ।
5. अमेरिकन तथा यूरोपीय देशों में "प्राथम...िक अध्यापक" को सर्वाधिक वेतन मिलता है, क्योंकि कच्ची मिट्टी को वे ही "पक्का" करते हैं ।
6. भारत में शिक्षक यदि अपने वेतन के लिए या छात्रों की उन्नति के लिए किसी गलत नियम के विर्रुद्ध कोई आवाज़ उठाये या आंदोलन करे तो भारतीय पुलिस उन्हें "डंडे" मारती है ।
जहाँ शिक्षकों का अपमान होता रहेगा, वहाँ सिर्फ चोर, डाकू, लुटेरे, भ्रष्टाचारी लोग ही पनपते है।

Do Not Forget Following THREE Points

तीन बातें

तीन बातें कभी न भूलें - प्रतिज्ञा करके, क़र्ज़ लेकर और विश्वास देकर। - महावीर

तीन बातें करो - उत्तम के साथ संगीत, विद्वान् के साथ वार्तालाप और सहृदय के साथ मैत्री। - विनोबा

तीन अनमोल वचन - धन गया तो कुछ नहीं गया, स्वास्थ्य गया तो कुछ गया और चरित्र गया तो सब गया। - अंग्रेजी कहावत

तीन से घृणा न करो - रोगी से, दुखी से और निम्न जाती से। - मुहम्मद साहब

तीन के आंसू पवित्र होते हैं - प्रेम के, करुना के और सहानुभूति के। - बुद्ध

तीन बातें सुखी जीवन के लिए- अतीत की चिंता मत करो, भविष्य का विश्वास न करो और वर्तमान को व्यर्थ मत जाने दो।

तीन चीजें किसी का इन्तजार नहीं करती - समय, मौत, ग्राहक।

तीन चीजें जीवन में एक बार मिलती है - मां, बांप, और जवानी।

तीन चीजें पर्दे योग्य है - धन, स्त्री और भोजन।

तीन चीजों से सदा सावधान रहिए - बुरी संगत, परस्त्री और निन्दा।

तीन चीजों में मन लगाने से उन्नति होती है - ईश्वर, परिश्रम और विद्या।

तीन चीजों को कभी छोटी ना समझे - बीमारी, कर्जा, शत्रु।

तीनों चीजों को हमेशा वश में रखो - मन, काम और लोभ।

तीन चीजें निकलने पर वापिस नहीं आती - तीर कमान से, बात जुबान से और प्राण शरीर से।

तीन चीजें कमज़ोर बना देती है - बदचलनी, क्रोध और लालच।

तीन चीज़े असल उद्धेश्य से रोकता हैं - बदचलनी, क्रोध और लालच।

तीन चीज़ें कोई चुरा नहीं सकता - अकल, चरित्र, हुनर।

तीन व्यक्ति वक़्त पर पहचाने जाते हैं - स्त्री, भाई, दोस्त।

तीनों व्यक्ति का सम्मान करो - माता, पिता और गुरु।

तीनों व्यक्ति पर सदा दया करो - बालक, भूखे और पागल।

तीन चीज़े कभी नहीं भूलनी चाहिए - कर्ज़, मर्ज़ और फर्ज़।

तीन बातें कभी मत भूलें - उपकार, उपदेश और उदारता।

तीन चीज़े याद रखना ज़रुरी हैं - सच्चाई, कर्तव्य और मृत्यु।

तीन बातें चरित्र को गिरा देती हैं - चोरी, निंदा और झूठ।

तीन चीज़ें हमेशा दिल में रखनी चाहिए - नम्रता, दया और माफ़ी।

तीन चीज़ों पर कब्ज़ा करो - ज़बान, आदत और गुस्सा।

तीन चीज़ों से दूर भागो - आलस्य, खुशामद और बकवास।

तीन चीज़ों के लिए मर मिटो - धेर्य, देश और मित्र।

तीन चीज़ें इंसान की अपनी होती हैं - रूप, भाग्य और स्वभाव।

तीन चीजों पर अभिमान मत करो – ताकत, सुन्दरता, यौवन।

तीन चीजें अगर चली गयी तो कभी वापस नहीं आती - समय, शब्द और अवसर।

तीन चीजें इन्सान कभी नहीं खो सकता - शान्ति, आशा और ईमानदारी।

तीन चीजें जो सबसे अमूल्य है - प्यार, आत्मविश्वास और सच्चा मित्र।

तीन चीजे जो कभी निश्चित नहीं होती - सपनें, सफलता और भाग्य।

तीन चीजें, जो जीवन को संवारती है - कड़ी मेहनत, निष्ठा और त्याग।

तीन चीजें किसी भी इन्सान को बरबाद कर सकती है - शराब, घमन्ड और क्रोध।

तीन चीजों से बचने की कोशिश करनी चाहिये – बुरी संगत, स्वार्थ और निन्दा।

कोई भी कार्य करने से पहले – सोचो, समझो, फिर करो।

अमेरिका की बात हैं. एक युवक को व्यापार में बहुत नुकसान उठाना पड़ा.

उसपर बहुत कर्ज चढ़ गया, तमाम जमीन जायदाद गिरवी रखना पड़ी . दोस्तों ने भी मुंह फेर लिया,

जाहिर हैं वह बहुत हताश था. कही से कोई राह नहीं सूझ रही थी.

आशा की कोई किरण दिखाई न देती थी.

एक दिन वह एक park में बैठा अपनी परिस्थितियो पर चिंता कर रहा था.

तभी एक बुजुर्ग वहां पहुंचे. कपड़ो से और चेहरे से वे काफी अमीर लग रहे थे.

बुजुर्ग ने चिंता का कारण पूछा तो उसने अपनी सारी कहानी बता दी.

बुजुर्ग बोले -” चिंता मत करो. मेरा नाम John D. Rockefeller है.
मैं तुम्हे नहीं जानता,पर तुम मुझे सच्चे और ईमानदार लग रहे हो. इसलिए मैं तुम्हे दस लाख डॉलर का कर्ज देने को तैयार हूँ.”

फिर जेब से checkbook निकाल कर उन्होंने रकम दर्ज की और उस व्यक्ति को देते हुए बोले, “नौजवान, आज से ठीक एक साल बाद हम ठीक इसी जगह मिलेंगे. तब तुम मेरा कर्ज चुका देना.”

इतना कहकर वो चले गए.

युवक shocked था. Rockefeller
तब america के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक थे.

युवक को तो भरोसा ही नहीं हो रहा था की उसकी लगभग सारी मुश्किल हल हो गयी.

उसके पैरो को पंख लग गये.

घर पहुंचकर वह अपने कर्जो का हिसाब लगाने लगा.

बीसवी सदी की शुरुआत में 10 लाख डॉलर बहुत बड़ी धनराशि होती थी और आज भी है.

अचानक उसके मन में ख्याल आया. उसने सोचा एक अपरिचित व्यक्ति ने मुझपे भरोसा किया, पर मैं खुद पर भरोसा नहीं कर रहा हूँ.

यह ख्याल आते ही उसने चेक को संभाल कर रख लिया.

उसने निश्चय कर लिया की पहले वह अपनी तरफ से पूरी कोशिश करेगा,
पूरी मेहनत करेगा की इस मुश्किल से
निकल जाए. उसके बाद भी अगर कोई चारा न बचे तो वो check use करेगा.

उस दिन के बाद युवक ने खुद को झोंक दिया.

बस एक ही धुन थी,

किसी तरह सारे कर्ज चुकाकर अपनी प्रतिष्ठा को फिर से पाना हैं.

उसकी कोशिशे रंग लाने लगी. कारोबार उबरने लगा, कर्ज चुकने लगा. साल भर बाद तो वो पहले से भी अच्छी स्तिथि में था.

निर्धारित दिन ठीक समय वह बगीचे में पहुँच गया.

वह चेक लेकर Rockefeller की राह देख रहा था

की वे दूर से आते दिखे.

जब वे पास पहुंचे तो युवक ने बड़ी श्रद्धा से उनका अभिवादन किया.

उनकी ओर चेक बढाकर उसने कुछ कहने के लिए मुंह खोल ही था की एक नर्स भागते हुए आई


झपट्टा मरकर वृद्ध को पकड़ लिया.

युवक हैरान रह गया.

नर्स बोली, “यह पागल बार बार पागलखाने से भाग जाता हैं


लोगो को जॉन डी . Rockefeller के रूप में check बाँटता फिरता हैं. ”

अब वह युवक पहले से भी ज्यादा हैरान रह गया.

जिस check के बल पर उसने अपना पूरा डूबता कारोबार फिर से खड़ा किया,वह

फर्जी था.

पर यह बात जरुर साबित हुई की वास्तविक जीत हमारे इरादे , हौंसले और प्रयास में ही होती हैं.

हम सभी यदि खुद पर विश्वास रखे तो यक़ीनन

किसी भी असुविधा से, situation से निपट सकते है.

" हमेशा हँसते रहिये,
एक दिन ज़िंदगी भी
आपको परेशान
करते करते थक जाएगी ।

Thursday, October 1, 2015

Some Sweet And Sour Talks

मोदी जी एक दिन सरकारी बैंक की एक शाखा के दौरे पर गये, परिसर में ग्राहक शोर मचा रहे थे।
शाखा प्रबंधक गायब थे ।

मोदी जी ;- (स्टाफ से)
तुम्हारे मेनेजर कहां हैं ?

स्टाफ :- वो तो पिछले वर्ष से हमेशा बाहर ही रहते हैं ।

पहले जनधन
फिर जन सुरक्षा
फिर सुकन्या
और अब मुद्रा लोन के टारगेट के लिए बाहर हैं ।

कभी कभी शाखा भी आ जाते हैं ।
मोदी जी :- फिर ये बैंक कैसे चलता है ?

स्टाफ :- जैसे आप देश चला रहे हैं

ट्रांसफर के लिए न्यूटन के नियम :-

📌 प्रथम नियम : यदि कोई कर्मचारी दुर्गम क्षेत्र में हैं तो वह वहीं रहेगा, जब तक उस पर कोई बाह्य कृपा/सिफारिश/अनुकम्पा प्राप्त नहीं होती! इस नियम को जुगाड का नियम भी कहते है!

📌 द्वितीय नियम : किसी दुर्गमी के ट्रांसफर हेतु लगाया गया बल उसकी वर्तमान पहुंच और उच्च सिफारिश के गुणनफल के बराबर होता है!

📌 तृतीय नियम : जितनी मात्रा में धन दिया गया, उतनी ही सुगमता से ट्रांसफर की संभावना होती है! इसे नीति-अनीति का नियम भी कहते हैं!

एक राजा था। उसने दस खूंखार जंगली कुत्ते पाल रखे थे। उसके दरबारियों और मंत्रियों से जब कोई मामूली सी भी गलती हो जाती तो वह उन्हें उन कुत्तों को ही खिला देता। एक बार उसके एक विश्वासपात्र सेवक से एक छोटी सी भूल हो गयी, राजा ने उसे भी उन्हीं कुत्तों के सामने डालने का हुक्म सुना दिया। उस सेवक ने उसे अपने दस साल की सेवा का वास्ता दिया, मगर राजा ने उसकी एक न सुनी। फिर उसने अपने लिए दस दिन की मोहलत माँगी ...जो उसे मिल गयी। अब वह आदमी उन कुत्तों के रखवाले और सेवक के पास गया और उससे विनती की कि वह उसे दस दिन के लिए अपने साथ काम करने का अवसर दे। किस्मत उसके साथ थी, उस रखवाले ने उसे अपने साथ रख लिया। दस दिनों तक उसने उन कुत्तों को खिलाया, पिलाया, नहलाया, सहलाया और खूब सेवा की। आखिर फैसले वाले दिन राजा ने जब उसे उन कुत्तों के सामने फेंकवा दिया तो वे उसे चाटने लगे, उसके सामने दुम हिलाने और लोटने लगे। राजा को बड़ा आश्चर्य हुआ। उसके पूछने पर उस आदमी ने बताया कि महाराज इन कुत्तों ने मेरी मात्र दस दिन की सेवा का इतना मान दिया बस महाराज ने वर्षों की सेवा को एक छोटी सी भूल पर भुला दिया। राजा को अपनी गलती का अहसास हो गया। .

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने घोषणा की कि उन्होंने मंगल ग्रह पर पानी खोज निकाला है. अब इस घटना पर हमारे देश की राजनीति में कैसी प्रतिक्रियाएं हुईं, जरा देखिये

–नरेन्द्र मोदी :
मितरों … 60 साल हो गए देश आज़ाद हुए, आज तक पानी मिला क्या ? (जनता – नहीं मिला …) तो अब मंगल ग्रह पर पानी मिलने के बाद मैं आप सबसे पूछना चाहता हूँ कि …

आपको बुध पर पानी चाहिए कि नही चाहिए ?… (जनता – चाहिए …)
आपको शुक्र पर पानी चाहिए कि नहीं चाहिए ?… (जनता – चाहिए…)

आपको शनि पर पानी चाहिए कि नहीं चाहिए ?… (जनता – चाहिए …)

तो आपसे मेरी हाथ जोड़कर प्रार्थना है कि इस बिहार चुनाव में मुझे अपना आशीर्वाद दीजिये और भाजपा की सरकार बनवाइए ….

राहुल गांधी :

पानी … पानी क्या होता है ? …. आज मैं आपको बताता हूँ कि पानी क्या होता है ? …. पानी, दरअसल पानी होता है … ये जो मंगल ग्रह का पानी है, वो किसानों और मजदूरों का पानी है …. गरीबों का पानी है, और ये सूटबूट की सरकार …. ये मोदी सरकार … उस पानी को उद्योगपतियों को देना चाहती है…. लेकिन मैं आपको ये बताने आया हूँ कि हम ऐसा होने नहीं देंगे ….

अरविन्द केजरीवाल :

मंगल पर पानी ढूँढने के लिए मैं वैज्ञानिकों को बधाई देता हूँ लेकिन ये केंद्र की सरकार …. पानी का कंट्रोल अपने हाथों में रखना चाहती है, दिल्ली की चुनी हुई सरकार को पानी से दूर रखना चाहती है …

ओवैसी :

कोई ये न समझे कि मंगल के पानी पर सिर्फ किसी एक कौम का हक है …. ध्यान रहे कि उस पानी पर मुसलमानों का भी बराबर का हक है…

लालू यादव :

ई मंगल पे पानी, मंगल पे पानी, मंगल पे पानी का करता है रे ? धुत …! अरे ऊ तो बिहार का पानी है जो हमरे गया से जाता है …. गया में जा के पुरखों को पानी देते हो कि नहीं ? बोलिए ? उहै पानी पहुँचता है मंगल पे … बुडबक!

जी न्यूज़ :

यहाँ आपके लिए ये जानना बेहद जरूरी है कि मोदी जी इस देश के ऐसे पहले प्रधानमन्त्री बन गए हैं जिनके कार्यकाल में मंगल पर पानी मिला है …. !!!

दीपक चौरसिया :

इस वक़्त मैं मंगल पर हूँ और जैसा कि यहाँ मैं देख पा रहा हूँ ये दरअसल एक स्विमिंग पूल है, जो ललित मोदी का है, जो अपनी पत्नी के इलाज के लिए पेरिस हिल्टन के साथ यहाँ आये हुए हैं.

फेस्बुकिया मोदी भक्त :

… देख लो, इसे कहते हैं अच्छे दिन …. तुम लोग साले दाल की मंहगाई का रोना ही रोते रहना, बस !

समर्थन और विरोध केवल
विचारों का होना चाहिये
किसी व्यक्ति का नहीं..
अच्छा व्यक्ति भी गलत विचार
रख सकता है और किसी बुरे
व्यक्ति का भी कोई विचार
सही हो सकता है ।
'मत' भेद कभी भी 'मन' भेद
नहीं बनने चाहिए ।

जिंदगी का तजूर्बा तो
पर इतना मालूम है ,
छोटा आदमी बडे मौके पर
काम आ जाता है।
बड़ा आदमी छोटी सी
बात पर
औकात दिखा जाता है !

जिन्दगी की कीमत जाननी है
तो 1घंटा किसी सरकारी हस्पताल में गुजारिये
पता चलेगा कि
कितनी ऐश की जिन्दगी जीते है हम
फिर भी कमियों का रोना रोते है

लोग ही लोग हैं चारों ओर
बैंक के अंदर , बैंक के बाहर ,
दिन रात दौड़ते लोगों के पास ,
वक़्त नहीं है अपने अपने काम से.

सारे पैसे बैंक में डाल के ,
हम ग्राहक बार बार बैंक दौड़ते हैं ......

कहीं पैसे भेजने ,
गहने रखने ,
गैस की सब्सिडी कराने ,
बच्चे की फीस जमा कराने ,
सैलरी लाने ,
मजदूरी लाने ,
बिजली का बिल भरने ,
रोज़ के खर्चे निकालने ,
रोज़ की बचत जमा कराने ,
बीमा कराने ,
मरे हुए रिश्तेदारों के पैसे निकालने ,
सरकारी योजनाओं के फायदे उठाने ,
अपने पुरे परिवार का भविष्य सुरक्षित कराने ,
जाने क्या क्या कराने जो हम भी नहीं जानते

हर काम करने के लिए हमे बैंक जाना ही पड़ता हैं ..

कितने लोग.... सौ , हज़ार , लाख , करोड़
कितने काम....सौ , हज़ार , लाख , करोड़, हर रोज़ .
बैंकर कितने... एक दो या तीन....

सबको जल्दी काम करा के जाना हैं ..

किसी को बस पकड़ना हैं
किसी को हॉस्पिटल जाना हैं
किसी के भाई की मरखी हैं
किसी के पिता बीमार हैं .
किसी की माँ बूढी हैं ,
किसी का बच्चा रो रहा हैं ,
किसी का बेटा दूर शहर में पढ़ने गया हैं
किसी की बेटी गुंडों से घिरी हैं
सब को अपने काम करा के जल्दी जाना हैं ..

पर हर बैंक के ब्रान्च में बैठा ,
एक दो या तीन बैंकर
जो अपने घर, माँ बाप, रिश्तेदारों से सैकड़ों हज़ारों मील दूर बैठा हैं
उसके बच्चे बीमार नहीं होते ,
उसकी बीबी पत्थर की हैं
उसकी माँ कभी बूढी नहीं होती
उसका पिता शक्तिमान हैं
उसके भाई रिश्तेदार संगी किसी को उसकी जरूरत नहीं हैं
बैंकर खाना नहीं खाता
बैंकर सब्जी नहीं खरीदता
बैंकर कपडे नहीं खरीदता
बैंकर बिल नहीं भरता ,
बैंकर के बच्चे बाप के साथ नहीं खेलते ,
बैंकर की बेटी गुंडों से सेफ हैं
बैंकर को दर्द नहीं होता
उसके कोई अरमान नहीं होते .
हाय !

बैंकर के पास भी वो सारे काम हैं वो सारे रिश्ते हैं ,वो सब कुछ हैं
पर बैंकर के पास अब उन्हें दफ़नाने का भी वक़्त नहीं ..
सारे नाम मोबाइल में हैं ,
पर उसे किसी के लिये वक़्त नहीं .
गैरों की क्या बात करें ,
जब उसे अपनों के लिये ही वक़्त नहीं .
उसकी आखों में नींद भरी हैं ,
पर उसे सोने का भी वक़्त नहीं .
उसका दिल ग़मो से भरा हुआ है,
पर उसे रोने का भी वक़्त नहीं .

मैं जब बैंक जाता हूँ तो सोचता हूँ इन बैंकरों को देखकर ,
कि इनके पास तो थकने का भी वक़्त नहीं .
ये बेचारे पराये एहसानों की क्या कद्र करें ,
जब इन्हें अपने सपनों के लिये ही वक़्त नहीं

अरे बैंकर
तेरी इस ज़िन्दगी का क्या होगा,
कि सबके लिए हर पल मरते हो,
और तुझे जीने के लिये भी वक़्त नहीं ..
और तेरी कोई कद्र भी नहीं ...

----एक ग्राहक

जिस प्रकार एक सुर्य या एक दीपक अनेकानेक व्यक्तियों को रास्ता दिखा सकता है , इसी प्रकार से एक सम्यक् दृष्टि या एक अनुभवी व्यक्ति पूरे संसार , देश , समाज , परिवार और खुद को रोशन कर सकता है। ।
जय जिनेन्द्र

Managing Stress by Vijay Goyal

Part 1 Understanding Stress

What is Stress?

• Stress is explained as –too anxious and tired to be able to relax...
• Existence of an extra force that causes exertion, which is highly unwelcome
• Dictionary meaning---- Mental pressure- pressure or worry caused by the problems in life, which is often a factor in the development of long term illness.
• Pressure or emphasis which is more than what it should be in the normal course of events.

People with constant stress spend 45 % more on medicines than people without stress.

Managing stress is an important aspect of life. Stress cannot be eliminated but has to be managed. It has to be managed in such a way that we become the masters of stress and not its victim. One should understand that it is not problems, but instead it is the way one looks at them that creates stress. In order to improve the way, we look at life; we have to manage stress so that we are restful in all walks of life.

Why it need to be managed

God has made our body with many automatic systems that work without our knowledge and efforts on their own, like breathing, blinking, pumping of blood, and so forth. Most of you may not know of another system that is installed that changes biochemistry of the body when brain gets a signal of stress.

Under any stress-causing situation, the moment the adrenal and Hypothalamus perceive something as being stressful, a chain of events take place as following:-

a. Digestion ceases
b. blood is diverted from entire body to the brain and the muscles
c. production of saliva and perspiration increases
d. Bowel and bladder muscles loosen
e. Sugar is poured into blood from liver.
f. The individual body gets ready for urgent and important action
g. Pulse rate, heart output and blood pressure increase

All the above is to prepare body for fighting or fleeing from stress threat, and remains till the threat persists. It may be for a few seconds or for a few years continuously. If this stage always remains like this without cooling then it may lead to Fat storage, diabetes, heart disease, weakened immune system and depression, as continuous damage occurs. The body system responds in this manner, whether it is a traffic jam, verbal argument in office, exam fear, important event, or a sleepless night, targets promotions etc.

Technically speaking:-

Under any stress-causing situation, the moment the adrenal and Hypothalamus perceive something as being stressful, a chain of events take place as following

• Adrenalin and cortisone are poured into the system
• The pupils dilate and the nostrils flare up
• All senses are heightened
• Signal sent by the pituitary to the concerned endocrine glands to enhance the hormone production and release the hormones into the blood stream
• Digestion ceases and the blood is diverted to the brain and the muscles
• Muscles become tense in anticipation of urgent action
• The production of saliva and perspiration increases
• Bowel and bladder muscles loosen
• The skin blanches, blood rushes through the limb muscles and the heart
• Blood clotting mechanism is activated as a protection against injury
• Pulse rate, heart output and blood pressure increase
• Breathing rate increases
• Metabolism increases and sugar is poured into blood from liver.
• The individual body gets ready for urgent and important action

These hormones activate and deactivate certain glands, nerves and biological actions and responses. Their basic purpose is to maintain the bio-rhythm of flow, and rest and mobilize energy to facilitate survival tactics of fight and flight.

What can happen to you?


• Palpitation, Chest pain, general discomfort, sleeplessness, feeling of fatigue
• Indigestion, constipation, other digestive discomforts which don’t have origin in gastrointestinal infections
• Overeating, under-eating, nausea, giddiness
• Allergy, asthmatic problems, respiratory difficulties
• Backache, headache, neck pain, thyroid problem, muscle pain, general body ache
• Urinary problems
• Sexual problems/ difficulty in sexual relationships
• Menstrual disorder, stomach cramps
• Rashes, itching, boils/ skin problems, strain in the eye
• Falling hair, premature graying of hair
• Low resistance to cold, infections
• Obesity, arthritis, hypertension, strokes

• Lack of concentration,
• Communication problem
• Trouble in decision making
• Difficulty in remembering; Temporary and selective memory lapses
• Repeating mistakes
• Becoming an introvert/ Extrovert
• Depression/ Hallucination


• Prone to anger and violence
• Easily irritated, panicky
• Mood swings, emotional, over and under drive
• Feeling lonely and useless
• Guilty, ashamed, anxious
• Suffering from phobias, fearful, distrustful
• Lapsing into cyclic spells
• Too much of artificial laughter
• Feeling a lump in throat while talking
• Ill towards others, feeling of insecurity


• Excess smoking/ drinking
• Erratic sleeping time
• Poor time management, excess time boundaries
• Withdrawn, overactive
• Rash driving, technophobia
• Aggressive behaviour, lethargic/ workaholic
• Addiction to computer/ entertainment
• Overambitious, emotional
• Loud talking, stuttering, other speech abnormalities not attributed to physical challenges
• Nail biting, splitting hair, frequent blinking of eyelids
• Compulsive and impulsive lying
• Bullying, getting bullied
• Cranky, obstinate, fidgety
• Excess hand movement while talking
• Complaining of burden, tiredness

We do not feel the effects of daily stress, as our body gets used to thresh hold levels of stress that we remain in, though at that time biochemical changes keep on occurring slowly damaging our body without our knowledge. We feel stress only when it goes beyond that level.

Though you undergo stress most of the times, when were you under maximum stress ever in life. Please answer this question below in comments in short, if you feel to answer. I shall analyze this stress level.

Sunday, July 5, 2015

Some Stories To Open Your Eyes

मूर्ती पूजा का रहस्य जरूर पढ़े :-

कोई कहे की की हिन्दू मूर्ती पूजा क्यों
करते हैं तो उन्हें बता दें
मूर्ती पूजा का रहस्य :-

स्वामी विवेकानंद को एक राजा ने ...

अपने भवन में बुलाया और बोला,

“तुम हिन्दू लोग मूर्ती की पूजा करते हो!
मिट्टी, पीतल, पत्थर की मूर्ती का.!

पर मैं ये सब नही मानता।
ये तो केवल एक पदार्थ है।”

उस राजा के सिंहासन के पीछे
किसी आदमी की तस्वीर लगी थी।

विवेकानंद जी कि नजर उस
तस्वीर पर पड़ी।

विवेकानंद जी ने राजा से पूछा,
“राजा जी, ये तस्वीर किसकी है?”

राजा बोला, “मेरे पिताजी की।”

स्वामी जी बोले, “उस तस्वीर को अपने
हाथ में लीजिये।”

राज तस्वीर को हाथ मे ले लेता है।

स्वामी जी राजा से : “अब आप उस
तस्वीर पर थूकिए!”

राजा : “ये आप क्या बोल रहे हैं
स्वामी जी.?

“स्वामी जी : “मैंने कहा उस
तस्वीर पर थूकिए..!”

राजा (क्रोध से) : “स्वामी जी, आप होश मे
तो हैं ना? मैं ये काम नही कर सकता।”

स्वामी जी बोले, “क्यों?

ये तस्वीर तो केवल
एक कागज का टुकड़ा है,
और जिस पर कूछ रंग लगा है।

इसमे ना तो जान है,

ना आवाज,

ना तो ये सुन सकता है,

और ना ही कूछ बोल सकता है।”

और स्वामी जी बोलते गए,

“इसमें ना ही हड्डी है और ना प्राण।

फिर भी आप इस पर कभी थूक
नही सकते।

क्योंकि आप इसमे अपने
पिता का स्वरूप देखते हो।

और आप इस तस्वीर का अनादर
करना अपने पिता का अनादर करना
ही समझते हो।”

थोड़े मौन के बाद स्वामी जी आगे कहाँ,
“वैसे ही, हम हिंदू भी उन पत्थर, मिट्टी,
या धातु की पूजा भगवान का स्वरूप मान
कर करते हैं।

भगवान तो कण-कण मे है, पर
एक आधार मानने के लिए और
मन को एकाग्र करने के
लिए हम मूर्ती पूजा करते हैं।”

स्वामी जी की बात सुनकर राजा ने
स्वामी जी के चरणों में गिर कर
क्षमा माँगी।

󾮜एक लडकी ने एक लडके का प्यार कबुल नही किया तो लडके ने
लडकी के मुँह पर तेजाब फेक दिया तो लडकी ने लडके से चंद
पंक्तीयाँ कही आप एक बार इन पंक्तीयो को जरुर पढना󾮞

󾮜चलो, फेंक दिया
सो फेंक दिया....@...

अब कसूर भी बता दो मेरा
तुम्हारा इजहार था
मेरा इन्कार था
बस इतनी सी बात पर
फूंक दिया तुमने
चेहरा मेरा....@
गलती शायद मेरी थी
प्यार तुम्हारा देख न सकी
इतना पाक प्यार था
कि उसको मैं समझ ना सकी....@
अब अपनी गलती मानती हूँ
क्या अब तुम ... अपनाओगे मुझको?
क्या अब अपना ... बनाओगे मुझको?@
क्या अब ... सहलाओगे मेरे चहरे को?
जिन पर अब फफोले हैं...@
मेरी आंखों में आंखें डालकर देखोगे?
जो अब अन्दर धस चुकी हैं
जिनकी पलकें सारी जल चुकी हैं
चलाओगे अपनी उंगलियाँ मेरे गालों पर?
जिन पर पड़े छालों से अब पानी निकलता है
हाँ, शायद तुम कर लोगे....@
तुम्हारा प्यार तो सच्चा है ना?
अच्छा! एक बात तो बताओ
ये ख्याल 'तेजाब' का कहाँ से आया?
क्या किसी ने तुम्हें बताया?
या जेहन में तुम्हारे खुद ही आया?
अब कैसा महसूस करते हो तुम मुझे जलाकर?
या पहले से ज्यादा
और भी मर्दाना...???@

तुम्हें पता है
सिर्फ मेरा चेहरा जला है
जिस्म अभी पूरा बाकी है
एक सलाह दूँ!...@

एक तेजाब का तालाब बनवाओ
फिर इसमें मुझसे छलाँग लगवाओ
जब पूरी जल जाऊँगी मैं
फिर शायद तुम्हारा प्यार मुझमें
और गहरा और सच्चा होगा....@

एक दुआ है....@
अगले जन्म में
मैं तुम्हारी बेटी बनूँ
और मुझे तुम जैसा
आशिक फिर मिले
शायद तुम फिर समझ पाओगे
तुम्हारी इस हरकत से
मुझे और मेरे परिवार को
कितना दर्द सहना पड़ा है।...@
तुमने मेरा पूरा जीवन
बर्बाद कर दिया है

|| तजुर्बे ने ये 10 बातें सिखाई है - आप भी
ज़रूर पढ़ें ||
(1) आजकल लोग समझते 'कम' और
समझाते 'ज्यादा' हैं,
तभी तो मामले सुलझते 'कम' उलझते 'ज्यादा'...

(2) ज़ुबान की हिफाज़त,
दौलत से ज्यादा मुश्किल है !
(3) गरीबों का मज़ाक मत उड़ाओ, क्युँकि
गरीब होने में वक्त नहीं लगता!
(4) अगर इबादत नहीं कर सकते, तो गुनाह भी
मत करो !
(5) दुनिया ये नहीं देखती कि तुम पहले क्या
थे, बल्कि ये देखती है कि तुम अब क्या हो !
6) जहां अपनी बात की कदर ना हो, वहां चुप
रहना ही बेहतर है !
(7) धनवान वह नहीं, जिसकी तिजोरी नोटों
से भरी हो ,
धनवान तो वो हैं जिसकी तिजोरी रिश्तों से
भरी हो !
(8) लोगों से मिलते वक्त इतना मत झुको, कि
उठते वक्त सहारा लेना पड़े!
(9) शिकायते तो बहुत है तुझसे ऐ जिन्दगी,
पर चुप इसलिये हु कि, जो दिया तूने,
वो भी बहुतो को नसीब नहीं होता!
(10) न सफारी में नज़र आई और न ही फरारी
में नज़र आई;
जो खुशिया बचपन मै दोस्तों के साथ
की सवारी में नज़र आई !!

जो चाहोगे सो पाओगे !

एक साधु था , वह रोज घाट के किनारे बैठ कर चिल्लाया करता था ,”जो चाहोगे सो पाओगे”, जो चाहोगे सो पाओगे।”

बहुत से लोग वहाँ से गुजरते थे पर कोई भी उसकी बात पर ध्यान नहीँ देता था और सब उसे एक पागल आदमी समझते थे।

एक दिन एक युवक वहाँ से गुजरा और उसनेँ उस साधु की आवाज सुनी , “जो चाहोगे सो पाओगे”, जो चाहोगे सो पाओगे।” ,और आवाज सुनते ही उसके पास चला गया।...

उसने साधु से पूछा -“महाराज आप बोल रहे थे कि ‘जो चाहोगे सो पाओगे’ तो क्या आप मुझको वो दे सकते हो जो मैँ जो चाहता हूँ?”

साधु उसकी बात को सुनकर बोला – “हाँ बेटा तुम जो कुछ भी चाहता है मैँ उसे जरुर दुँगा, बस तुम्हे मेरी बात माननी होगी। लेकिन पहले ये तो बताओ कि तुम्हे आखिर चाहिये क्या?”

युवक बोला-” मेरी एक ही ख्वाहिश है मैँ हीरों का बहुत बड़ा व्यापारी बनना चाहता हूँ। “

साधू बोला ,” कोई बात नहीँ मैँ तुम्हे एक हीरा और एक मोती देता हूँ, उससे तुम जितने भी हीरे मोती बनाना चाहोगे बना पाओगे !”

और ऐसा कहते हुए साधु ने अपना हाथ आदमी की हथेली पर रखते हुए कहा , ” पुत्र , मैं तुम्हे दुनिया का सबसे अनमोल हीरा दे रहा हूं, लोग इसे ‘समय’ कहते हैं, इसे तेजी से अपनी मुट्ठी में पकड़ लो और इसे कभी मत गंवाना, तुम इससे जितने चाहो उतने हीरे बना सकते हो “

युवक अभी कुछ सोच ही रहा था कि साधु उसका दूसरी हथेली , पकड़ते हुए बोला , ” पुत्र , इसे पकड़ो , यह दुनिया का सबसे कीमती मोती है , लोग इसे “धैर्य ” कहते हैं , जब कभी समय देने के बावजूद परिणाम ना मिलेंटो इस कीमती मोती को धारण कर लेना , याद रखन जिसके पास यह मोती है, वह दुनिया में कुछ भी प्राप्त कर सकता है। “

युवक गम्भीरता से साधु की बातों पर विचार करता है और निश्चय करता है कि आज से वह कभी अपना समय बर्वाद नहीं करेगा और हमेशा धैर्य से काम लेगा । और ऐसा सोचकर वह हीरों के एक बहुत बड़े व्यापारी के यहाँ काम शुरू करता है और अपने मेहनत और ईमानदारी के बल पर एक दिन खुद भी हीरों का बहुत बड़ा व्यापारी बनता है।

Friends, ‘समय’ और ‘धैर्य’ वह दो हीरे-मोती हैं जिनके बल पर हम बड़े से बड़ा लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं। अतः ज़रूरी है कि हम अपने कीमती समय को बर्वाद ना करें और अपनी मंज़िल तक पहुँचने के लिए धैर्य से काम लें।

Sunday, June 7, 2015

Some New Jokes AND Some Important Information

Reality Check: Reporter:- PM sir; which fruit do you like?

Modi:- Apple

Reporter:- Breaking news---
Modi does not like Mangoes; Banana; Peru; etc.
Let’s ask Congress their views on this....

Manish Tewari:- Modi like Apple means Red color.
This means he likes bloodshed
This means he does not want peace and harmony in the country

Ahmed Patel:- This means Modi is only promoting Hindutva.
He does not like green fruits means he is against Muslims.
This clearly shows Modi has no feelings for Muslims.

Nitish Kumar:- This attitude of Modi is what made us split from NDA

Rahul Gandhi:- Modi never says which chocolate he likes.
The Nation has the right to know this.

Sonia Gandhi:- People of India please ask from where
Modi is going to get the money to buy such an expensive fruit.

Geelani:- This is Modi’s tactic to usurp Kashmir.
We will not allow this to happen.

Yechuri:- Selecting an expensive fruit like Apple shows Modi is pro- capitalist

Kejriwal:- Traditionally Mango is considered the King of Fruits.
Modi is anti tradition. This is against the interest of the aam aadmi.

Laloo Prasad:- Yeh Modiya to bimaar hai.
Apple khanae say theek nahi hoga

Foreign Media:- Modi’s communal policies are hurting the secular fabric of India.
एक पत्नी ने अपने पति से आग्रह किया कि वह उसकी छह कमियाँ बताए जिन्हें सुधारने से वह बेहतर पत्नी बन जाए. पति यह सुनकर हैरान रह गया और असमंजस की स्थिति में पड़ गया. उसने सोचा कि मैं बड़ी आसानी से उसे ६ ऐसी बातों की सूची थमा सकता हूँ , जिनमें सुधार की जरूरत हे और ईश्वर जानता है कि वह ऐसी ६० बातों की सूची थमा सकती हे जिसमें मुझे सुधार की जरूरत हे !
परंतु पति ने ऐसा नहीं किया और कहा - 'मुझे इस बारे में सोचने का समय दो , मैं तुम्हें सुबह इसका जबाब दे दूँगा.'
पति अगली सुबह बहुत जल्दी उठ गया और फूल वाले को फोन करके उसने अपनी पत्नी के लिए छह गुलाबों का तोहफा भिजवाने के लिए कहा जिसके साथ यह चिट्ठी लगी थी "मुझे तुम्हारी छह कमियाँ नहीं मालूम, जिनमें सुधार की जरूरत है. तुम जैसी भी हो मुझे बहुत अच्छी लगती हो."
उस शाम पति जब आफिस से लौटा तो क्या आप बता सकते हैं कि दरवाजे पर किसने उसका स्वागत किया ?
बिलकुल ठीक.....
उसकी पत्नी ने , उसकी आंखौं में आँसू भरे हुए थे. यह कहने की जरूरत नहीं कि पति इस बात पर बहुत खुश था कि पत्नी के आग्रह के बावजूद उसने उसकी आलोचना (छह कमियों की सूची) नहीं की थी.
यथासंभव जीवन साथी की सराहना करने में कंजूसी न करें और आलोचना से बचकर रहने में ही समझदारी है..
This is how, to write a love letter, in a professional manner..
Dearest Girl,
I am very happy to inform you that I have fallen in love with you since Monday, the 15th of June .
With reference to the meeting held between us on the 15th of june at 9.30 hours, I would like to present myself as a prospective lover. Our love affair would be on probation for a period of three months and depending on compatibility would be made permanent.
Of course, upon completion of probation, the...
re will be continuous on-the-relationship training and relationship appraisal schemes leading up to promotion from lover to spouse.
The expenses incurred for coffee and entertainment would initially be shared equally between us.
Later, based on your performance, I might take up a larger share of the expenses.
However I am broad-minded enough, to be taken care of, on your expense account.
I request you to kindly respond within 7 days of receiving this letter, failing which, this offer would be treated as cancelled and I shall be considering some other girl.
Thanking you in anticipation.
Yours sincerely,
Dedicated to all the corporate guys

यमलोक के दरवाजे पर दस्तक हुई तो यमराज ने जाकर दरवाजा खोला।
उन्होंने बाहर झांका तो एक मानव को सामने खड़ा पाया।
यमराज ने कुछ बोलने के लिए मुंह खोला ही था कि वह एका...एक गायब हो गया।
यमराज चौंके और फिर दरवाज़ा बंद कर लिया। यमराज अभी वापस मुड़े ही थे कि फिरदस्तक हुई।
उन्होंने फिर दरवाजा खोला। उसी मानव को फिर सामने मौजूद पाया, लेकिन वह आया और फिर गायब हो गया।
ऐसा तीन-चार बार हुआ तो यमराज अपना धैर्य खो बैठे और अबकी बार उसे पकड़ ही लिया और पूछा, "क्या बात है भाई, क्या ये आना-जाना लगा रखा है।
मुझसे पंगा ले रहे हो?
"मानव ने बड़ी सहजता पूर्वक जवाब दिया,"अरे नहीं महाराज, दरअसल मैं तो वैंटीलेटर पर हूं और यह डॉक्टर लोग ही हैं जो आपसे मस्ती कर रहे हैं।"

एक बेटे ने पिता से पूछा - पापा ये 'सफल जीवन' क्या होता है ?

पिता, बेटे को पतंग उड़ाने ले गए।
बेटा पिता को ध्यान से पतंग उड़ाते देख रहा था...

थोड़ी देर बाद बेटा बोला,
पापा.. ये धागे की वजह से पतंग और ऊपर नहीं जा पा रही है, क्या हम इसे तोड़ दें !! ...

ये और ऊपर चली जाएगी...

पिता ने धागा तोड़ दिया ..

पतंग थोड़ा सा और ऊपर गई और उसके बाद लहरा कर नीचे आइ और दूर अनजान जगह पर जा कर गिर गई...

तब पिता ने बेटे को जीवन का दर्शन समझाया .,,,,

'जिंदगी में हम जिस ऊंचाई पर हैं..
हमें अक्सर लगता की कुछ चीजें, जिनसे हम बंधे हैं वे हमें और ऊपर जाने से रोक रही हैं
जैसे :
माता-पिता आदि
और हम उनसे आजाद होना चाहते हैं...
वास्तव में यही वो धागे होते हैं जो हमें उस ऊंचाई पर बना के रखते हैं..
इन धागों के बिना हम एक बार तो ऊपर जायेंगे
बाद में हमारा वो ही हश्र होगा जो
बिन धागे की पतंग का हुआ...'

"अतः जीवन में यदि तुम ऊंचाइयों पर बने रहना चाहते हो तो, कभी भी इन धागों से रिश्ता मत तोड़ना.."
" धागे और पतंग जैसे जुड़ाव के सफल संतुलन से मिली हुई ऊंचाई को ही 'सफल जीवन' कहते हैं बेटा...

When you receive your PAN, please register it immediately at, otherwise your Chartered Accountan...t or Income Tax Advocate may register it on your behalf. 

  Presently the income tax department allows one mobile in 10(Ten) PANs. So unscrupulous persons are putting their own mobile number in their client's PAN registration and keeping his password secret from their clients to force the clients to hire them for filing tax returns for which they are charging a good sum.

I faced similar problem. I needed my password for e-filing my income tax return. When I visited the site and tried to register my PAN there. I was informed that my PAN was already registered. I tried to recover my password by clicking on the "Forgot Password" Link. I was asked to reply answer of a secret question. I did not know the answer since my PAN was already registered by someone else without my knowledge.(It is a travesty that anyone can register your PAN on the e-filing site by just giving information available on your PAN card. Now- a-days photo copy of PAN is required at many places.) I didn’t know even the e mail ID registered at that time. The e-filing site has peculiar rule that they will send you reset password at the e-mail ID registered with them. So I faced too much difficulty in resetting password. Finally to reset my pass word, I had to upload my digital signature which is a costly option.
Uttam Kumar

कैसे पेट्रोल पंप वाले डालते है आपकी गाडी में कम पेट्रोल –जानकर चौंक पड़ेंगे आप
कैसे चोरी होता है पेट्रोल, कैसे लगती है आपकी जेब पर चपत, समझिए -
काफी दिनों से पेट्रोल पम्पो द्वारा कम पेट्रोल डाले जाने की सूचनाये मिल रही थी,लेकिन ये बात समझ में नही आ पा रही थी की जब मीटर चलता है तो ये पेट्रोल पंप वाले कम पेट्रोल कैसे डाल देते है इसी उधेड़बुन को लेकर मै पेट्रोल पम्प पर पेट्रोल डलवाने गया जहाँ से ये शिकायते आ रही थी.

जब में पेट्रोल पम्प पर पहुंचा तब मुझसे पहले दो और लोग पेट्रोल डलवा रहे थे इसीलिए मैंने भी अपनी बाइक लाइन में लगा दी और गौर से कर्मचारियों के पेट्रोल डालने का निरिक्षण करने लगा,मुझसे पहले मारुती स्विफ्ट वाला पेट्रोल डलवा रहा था उसने एक हज़ार रुपए का नोट गाडी के अन्दर से ही कर्मचारी को दिया चूँकि बारिश हो रही थी इसीलिए ड्राईवर ने बाहर आना उचित नही समझा,कर्मचारी ने पहले मीटर शून्य किया फिर उसमे हजार रुपए फीड किये और नोज्ज़िल लेकर पेट्रोल डालने लगा इस समय में ये सोचने में व्यस्त था की जब मीटर में हज़ार रुपए फीड कर दिए गये है तो निसंदेह हज़ार का ही पेट्रोल निकलेगा,फिर मैंने सोचा अगर मीटर में कुछ गड़बड़ नही है तो फिर आखिर ये लोग कैसे लोगो को बेवक़ूफ़ बनाकर कम पेट्रोल डाल देते है हो सकता है मुझसे झूठी शिकायत मिली हो.

बस यही सोचते सोचते मेरे सीधा ध्यान नोज़िल पर था तभी मुझे अचानक से कर्मचारी के हाथ में कुछ हरकत महसूस हुई उसने इतने धीरे से हाथ हिलाया की पास खड़े शक्श को भी संदेह न हो पाए लगभग 20 या 30 सेकंड बाद फिर उसने वही हरकत दोबारा की अब मुझे दाल में कुछ काल लगा की आखिर इसने दो बार हाथ में हरकत क्यूँ की जबकि नोज्ज़िल का स्विच एक बार दबा देने पर स्वत: पेट्रोल टंकी में गिरने लगता है. इतने में स्विफ्ट में 1000 Rs का पेट्रोल डालने के बाद उसने मुझसे आगे वाली बाइक में 100 का पेट्रोल डालना शुरू कर दिया, वही क्रिया फिर दोहराई पहले मीटर को शून्य किया फिर नोज्ज़िल टंकी में डालकर पेट्रोल डालने लगा लेकिन अचानक से उसने हाथ में फिर हरकत की लेकिन इस बार की हरकत 20 या 30 सेकंड की न होकर 8 से10 सेकंड की थी. अब मुझे समझ में आ गया हो न हो इसके नोज्ज़िल में ही कुछ गड़बड़ है.

खैर उसके बाद मेरा नम्बर भी आ गया मैंने 200 रुपए देकर पेट्रोल डालने को कहा उसने फिर मीटर जीरो किया और नोज्ज़िल डालकर पेट्रोल डालने लगा, इस बार मेरा पूरा ध्यान कर्मचारी की उंगलियों पर था अभी नोज्ज़िल डाले कुछ ही सेकंड बीते होंगे की उसने उंगलियों में कुछ हरकत की लेकिन में पहले से ही तैयार था तो उसके हरकत करते ही मैंने उसका हाथ पकड़कर नोज्ज़िल बाहर खीचं लिया ,इस हरकत से कर्मचारी घबरा गया और मेरी बाइक भी लड़खड़ा गयीलेकिन ये क्या नोज्ज़िल से तो पेट्रोल आ ही नही रहा था.?

होता कुछ यूं है की जिस नोज्ज़िल से कर्मचारी पेट्रोल डालते है उसका सम्बन्ध मीटर से होता है अगर मीटर में 200 रुपए का पेट्रोल फीड किया गया है तो एक बार नोज्ज़िल का स्विच दबाने पर स्वत 200 रुपए का पेट्रोल डल जायेगा उसे ऑफ करने की कोई ज़रूरत नही पड़ती, स्विच सिर्फ मीटर को ऑन करने के लिए होता है उसका ऑफ से कोई सम्बन्ध नही होता क्यूंकि मीटर फीड की हुई वैल्यू खत्म होने पर रुक जाता है अगर पेट्रोल डालते समय नोज्ज़िल का स्विच बंद कर दिया जाये तो मीटर चलता रहता है लेकिन नोज्ज़िल बंद होने की वजेह से पेट्रोल बाहर नही निकलता, इसी बात का फायदा उठकर कर्मचारी करते ये है की जब भी कोई पेट्रोल डलवाता है तो बीच बीच में स्विच ऑफ कर देते है जिससे रुक रुक कर पेट्रोल टंकी में जाता है और हम कंपनी को कम mileage की गाड़ी कहकर कोसकर चुप हो जाते है.

फर्ज़ कीजिये आप पेट्रोल पम्प पर गये और 200 रुपए का पेट्रोल डलवाया 200 रुपए का पेट्रोल डलने में 30-45 सेकंड का समय लगता है आपका सारा ध्यान मीटर की रीडिंग पढने में निकल जाता है और अगर ये लोग 10 सेकंड के लिए भी स्विच ऑफ करते है तो समझ लीजिये आपका 50 रुपए का पेट्रोल कम डाला गया है।

            तो इसके बाद थोडा ध्यान से Petrol डलवाइये। कार है तो Petrol/diesel डलवाते समय Car से बाहर आकर खड़े होकर check कीजिये।

Consumer awareness Movement


Saturday, April 25, 2015

How To Be Happy


एक बार पचास लोगों का ग्रुप किसी सेमीनार में हिस्सा ले रहा था।
सेमीनार शुरू हुए अभी कुछ ही मिनट बीते थे कि स्पीकर अचानक
ही रुका और सभी पार्टिसिपेंट्स को गुब्बारे 🏉देते हुए बोला , " आप
सभी को गुब्बारे पर इस मार्कर से अपना नाम लिखना है। " सभी ने
ऐसा ही किया।

अब गुब्बारों को एक दुसरे कमरे में रख दिया गया।
स्पीकर ने अब सभी को एक साथ कमरे में जाकर पांच मिनट के अंदर
अपना नाम वाला गुब्बारा ढूंढने के लिए कहा।

सारे पार्टिसिपेंट्स
तेजी से रूम में घुसे और पागलों की तरह अपना नाम वाला गुब्बारा ढूंढने

पर इस अफरा-तफरी में किसी को भी अपने नाम
वाला गुब्बारा नहीं मिल पा रहा था…

󾆮 5
पांच मिनट बाद सभी को बाहर
बुला लिया गया।

स्पीकर बोला , " अरे! क्या हुआ , आप
सभी खाली हाथ क्यों हैं ? क्या किसी को अपने नाम
वाला गुब्बारा नहीं मिला ?" "

नहीं ! हमने बहुत ढूंढा पर
हमेशा किसी और के नाम का ही गुब्बारा हाथ आया…", एक
पार्टिसिपेंट कुछ मायूस होते हुए बोला।

🏉"कोई बात नहीं , आप लोग एक
बार फिर कमरे में जाइये , पर इस बार जिसे जो भी गुब्बारा मिले उसे
अपने हाथ में ले और उस व्यक्ति का नाम पुकारे जिसका नाम उसपर
लिखा हुआ है। ", स्पीकर ने निर्दश दिया।

🏉एक बार फिर सभी पार्टिसिपेंट्स कमरे में गए, पर इस बार सब शांत थे , और कमरे
में किसी तरह की अफरा- तफरी नहीं मची हुई थी। सभी ने एक दुसरे
को उनके नाम के गुब्बारे दिए और तीन मिनट में ही बाहर निकले आये।

स्पीकर ने गम्भीर होते हुए कहा ,

☝☝" बिलकुल यही चीज हमारे जीवन में भी हो रही है।

हर कोई अपने लिए ही जी रहा है , उसे इससे कोई
मतलब नहीं कि वह किस तरह औरों की मदद कर सकता है , वह तो बस
पागलों की तरह अपनी ही खुशियां ढूंढ रहा है , पर बहुत ढूंढने के बाद
भी उसे कुछ नहीं मिलता ,

हमारी ख़ुशी दूसरों की ख़ुशी में

छिपी हुई है।

जब तुम औरों को उनकी खुशियां देना सीख जाओगे
तो अपने आप ही तुम्हे तुम्हारी खुशियां मिल जाएँगी।\l "